This page has moved to a new address.

Swami Vivekanada Chicago Speech in Hindi

AchchiKhabar.Com: Swami Vivekanada Chicago Speech in Hindi

Sunday 13 February 2011

Swami Vivekanada Chicago Speech in Hindi

 PR: n/a I: 28,500,000 L: 0 LD: error I: 28 Rank: 5 Age: October 12, 1999 I: 0 whoissourceRobo: yesSitemap: no Rank: 1428 Price: 982164
 PR: n/a I: 29,800,000 L: 0 LD: 211,463,783 I: 690,000Rank: 5 Age: October 12, 1999 I: 0 whoissourceRobo: yesSitemap: no Rank: 1643 Price: 907036
Info PR: 3 I: 6,710,000 L: 0 LD: 205,659,728 I: 452,000Rank: 5 Age: n/a I: 0 whoissourceRobo: yesSitemap: no Rank: 1665 Price: 899044 Density

Swami Vivekananda

आज AchchiKhabar.Com पर हम आपके साथ Swami Vivekananda द्वारा,1893 में Parliament of Religions, Chicago में दी गयी inspirational speech HINDI में share  कर रहे हैं.ये वही भाषण  है जिसने स्वामी जी की खाय्ती पूरे विश्व में फैला दी थी  और Parliament of Religions में हिंदुत्व और भारत का परचम लहरा दिया था.

Swami Vivekananda's Address/Speech (HINDI) to the World Parliament of Religions, 11th September, 1893

अमेरिकी   बहनों  और भाइयों

आपके इस स्नेह्पूर्ण और जोरदार स्वागत से मेरा हृदय आपार हर्ष से भर गया है.मैं आपको दुनिया के सबसे पौराणिक भिक्षुओं कि तरफ से धन्यवाद् देता हूँ.; मैं आपको सभी धर्मों की जननी कि तरफ से धन्यवाद् देता हूँ , और मैं आपको सभी जाति-संप्रदाय के लाखों-करोड़ों हिन्दुओं कि तरफ से धन्यवाद् देता हूँ.मेरा धन्यवाद् उन वक्ताओं को भी जिन्होंने ने इस मंच से  यह कहा है कि दुनिया में शहनशीलता का विचार सुदूर पूरब के देशों से  फैला  है . मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूँ जिसने दुनिया को शहनशीलता और  सार्वभौमिक स्वीकृति (universal acceptance) का पाठ पढाया है.हम सिर्फ  सार्वभौमिक शहनशीलता में ही विश्वास नहीं रखते बल्कि हम विश्व के सभी धर्मों को सत्य के रूप में स्वीकार करते हैं. मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे देश से हूँ  जिसने इस धरती के सभी देशों के  सताए गए लोगों को शरण दी है.मुझे यह बताते हुए गर्व हो रहा है कि हमने अपने हृदय में उन  इस्राइलियों के शुद्धतम स्मृतियाँ बचा कर रख्हीं हैं, जिनके मंदिरों को रोमनों ने तोड़-तोड़ कर खँडहर बना दिया, और तब उन्होंने दक्षिण भारत में शरण ली.  मुझे इस बात का गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूँ जिसने महान पारसी देश के अवशेषों को शरण दी और अभी भी उन्हें बढ़ावा दे रहा है. 

भाइयों मैं आपको एक श्लोक कि कुछ पंक्तियाँ सुनाना चाहूँगा जिसे मैंने बचपन से स्मरण  किया और दोहराया है, और जो रोज करोडो लोगो द्वारा हर दिन दोहराया जाता है." जिस तरह से विभिन्न धाराओं कि उत्पत्ति विभिन्न स्रोतों से होती है उसी प्रकार मनुष्य अपनी इच्छा के अनुरूप अलग-अलग मार्ग चुनता है, वो देखने में भले सीधा या टेढ़े-मेढ़े लगे पर सभी भगवान तक ही जाते हैं. "
वर्तमान सम्मलेन , जो कि  आज तक की सबसे पवित्र सभाओं में से है, स्वयं में गीता में  बताये  गए एक सिद्धांत का  प्रमाण है , " जो भी मुझ तक आता है ; चाहे किसी भी रूप में , मैं उस तक पहुँचता हूँ , सभी मनुष्य विभिन्न मार्गों पे संघर्ष कर रहे हैं जिसका अंत मुझ में है."  सांप्रदायिकता, कट्टरता, और इसके भयानक वंशज, हठधर्मिता लम्बे समय से प्रथ्वी को अपने शिकंजों में जकड़े हुए हैं. इन्होने पृथ्वी को हिंसा से भर दिया है , कितनी बार ही ये धरती खून से लाल हुई है , कितनी ही सभ्यताओं का विनाश हुआ है और कितने देश नष्ट हुए हैं.

अगर ये  भयानक राक्षस नहीं होते तो आज मानव समाज कहीं ज्यादा उन्नत होता. लेकिन अब उनका समय पूरा हो चूका है, मुझे पूरी उम्मीद है कि आज इस सम्मेलन का शंख नाद  सभी हठधर्मिता,हर  तरह के क्लेश  ,चाहे वो तलवार से हों या कलम से, और हर एक मनुष्य, जो एक ही लक्ष्य की तरफ बढ़ रहे हैं ; के बीच की  दुर्भावनाओं  का विनाश करेगा.















स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda)
Chicago, Sept 11, 1893

स्वामी विवेकानंद  को अमेरिका और यूरोपे में हिंदुत्व के प्रचार प्रसार और Ram Krishna Mission की स्थापना के लिए हमेशा याद रखा जायेगा. हम ऐसे महान योगी को शत-शत नमन करते हैं.




Note: हिंदी में अनुवाद करने में  सावधानी बरतने के बावजूद कुछ त्रुटियाँ हो सकती हैं. कृपया क्षमा करें.
This was a HINDI TRANSLATION of Swami Vivekananda's Speech at Chicago in 1893. 
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

 
निवेदन : कृपया अपने comments के through बताएं की Swami Vivekananda द्वारा दी गयी Inspirational SPEECH  का Hindi Translation आपको कैसा लगा .

यदि आपके पास Hindi में कोई article, good  news; inspirational story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:achchikhabar@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!

Labels: , , ,

12 Comments:

At Sunday, February 13, 2011 , Blogger SAFE Society said...

Very good Work.........

 
At Sunday, February 13, 2011 , Blogger डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

सहेजने योग्य पोस्ट है..... आभार गोपाल जी
स्वामी जी को सुनना पढ़ना सदैव सुखद अनुभूति ही देता है.....

 
At Sunday, February 13, 2011 , Blogger प्रवीण पाण्डेय said...

सुना है यह उद्भाषण, बहुत प्रभावित कर गया।

 
At Sunday, February 13, 2011 , Blogger Deepak Saini said...

विश्व प्रसिद्ध है ये बात

 
At Sunday, February 13, 2011 , Blogger सुशील बाकलीवाल said...

उत्तम प्रस्तुति...

 
At Monday, February 14, 2011 , Blogger Rajesh Kumar 'Nachiketa' said...

आज भी उतना ही सत्य....
एक प्रश्न! ये video में स्वर स्वामीजी के हैं?
बहुत बहुत धन्यवाद...इसे सबके सामने लाने के लिए....

 
At Monday, February 14, 2011 , Blogger Gopal Mishra said...

Thanks to all of you for your comments.
@Rajesh ji: I think it's Swamiji's voice only, but I cannot say it with 100% confidence.

 
At Thursday, February 17, 2011 , Blogger Global Agrawal said...

great post .. thanks

please read this too

http://my2010ideas.blogspot.com/2010/12/blog-post_7603.html

और हाँ ये आवाज विवेकानंद जी की नहीं है .....इस सन्दर्भ में एक लेख में जल्दी ही दूंगा

 
At Thursday, February 17, 2011 , Blogger Global Agrawal said...

इस बात को लेख के रूप में प्रकाशित कर रहा हूँ .... कृपया अन्यथा मत लीजियेगा (ये बहुत पहले से प्रकाशित करना चाहता था आपके लेख से मुझे याद आ गया )

यहाँ पढ़ें

http://my2010ideas.blogspot.com/2011/02/blog-post_17.html

 
At Tuesday, May 31, 2011 , Anonymous Anonymous said...

This comment has been removed by a blog administrator.

 
At Friday, August 19, 2011 , Blogger Arjun said...

swami ji k lekh par comment kru aise na to word h duniya me aur na mai itna kabil hu,swami ji divine h,

 
At Friday, August 19, 2011 , Blogger sandhya said...

kaphi accha lagi jankari mai swami jee ke bhashan ke liye utsuk thi.

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home